फर्जी डिग्रियों वाले अफसर हो सकते हैं सिद्धू का अगला निशाना

PDFPrint

लुधियाना: लोकल बॉडीज मंत्री नवजोत सिद्धू ने अपने अब तक के कार्यकाल दौरान नगर निगम व इम्प्रूवमैंट ट्रस्ट के कई अफसरों को धांधली के लिए जिम्मेदार बताकर सस्पैंड किया है तो कइयों को अकाली-भाजपा सरकार के समय अनिल जोशी के हाथों गलत ढंग से प्रमोशन लेने के आरोप में रिवर्ट किया जा चुका है।
नगर निगम, इम्प्रूवमैंट ट्रस्ट व सीवरेज बोर्ड के अफसरों को लेकर पहले से ही कई मामले चल रहे हैं कि उन्होंने फर्जी डिग्रियों के दम पर नौकरी हासिल की है। इनमें अहम पहलु यह है कि जो मुलाजिम पहले सर्विस में रहने के दौरान एडीशनल स्टडी करने के दम पर प्रमोशन लेने या कैडर बदलवाने में कामयाब हुए हैं, उन्होंने डिस्टैंस एजुकेशन के जरिए टैक्नीकल ड्रिगी हासिल करने का दावा किया है, जबकि यह कोर्स बिना प्रैक्टीकल स्टडी के संभव ही नहीं है। कई मुलाजिमों ने एडीशनल स्टडी करने के लिए सरकार से पहले मंजूरी और पेपर देने के लिए छुट्टियां तक नहीं ली। जिन्होंने यह प्रक्रिया पूरी की है, उनकी डिग्री से संबंधित यूनिवर्सिटी या कालेज यू.जी.सी. से रजिस्टर्ड नहीं है।
इस बारे में सारी खबर सिद्धू के कानों तक पहुंच चुकी है। जिनके द्वारा विभाग के अफसरों को रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा है। उसके संकेत गत दिनों अंडरग्राऊंड केबल डालने की मंजूरी देने की प्रक्रिया बारे जानकारी हासिल करने के लिए सिद्धू के हवाले से बुलाई मीटिंग में उनके सलाहकार अमर सिंह व डायरैक्टर लोकल बॉडीज ने अफसरों को दे दिए हैं, जिनसे अपनी डिग्री की कापियां भेजने को कहा है। उनकी संबंधित अथॉरिटी से जांच करवाने के अलावा मुलाजिमों का टैस्ट भी लिया जा सकता है। जिन्होंने एडीशनल स्टडी करने के लिए जरूरी सरकारी सिस्टम भी फॉलो नहीं किया जा रहा।

Add comment


Security code
Refresh

विडियो गैलरी

You need Flash player 6+ and JavaScript enabled to view this video.
Title: IND Vs SL Day 2: IND strike early after 536/7 declared with Virat 243 | Headlines Sports
Playlist: 0 | 1